अमृत महोत्सव पर्व के उपलक्ष्य में एक करोड़ से अधिक लोगों ने सूर्य नमस्कार किया


 हरिद्वार। आयुष मंत्रालय एवं पतंजलि योगपीठ के संयुक्त प्रयास से मकर संक्रांति एवं आजादी के अमृत महोत्सव पर्व के उपलक्ष्य में एक करोड़ से अधिक लोगों ने सूर्य नमस्कार किया। आयुष मंत्रालय ने अमृत महोत्सव के अन्तर्गत कई मंत्रालयों के सहयोग व प्रमुख राष्ट्रीय स्तर के योग संस्थानों विशेषतः पतंजलि योगपीठ, क्रीड़ा भारती नेशनल योगासन स्पोर्ट्स फेडरेशन, गीता परिवार एवं हार्टफुलनेस संस्थान के लाखों योग साधकों ने 75 लाख से अधिक लोगों का पंजीकरण किया एवं उन्हें सूर्य-नमस्कार करने के लिए प्रेरित किया। जिन्होंने शुक्रवार सुबह 7 बजे से इस कार्यक्रम में ऑनलाइन भागीदारी करते हुए एक करोड़ से अधिक प्रतिभागियों ने 13 बार सूर्य-नमस्कार कर एक ही दिन में 10 करोड़ से अधिक सूर्य नमस्कार के अभ्यास करने का विश्व कीर्तिमान बनाया। आयुष मंत्रालय एवं पतंजलि योगपीठ के संयुक्त प्रयास से मकर संक्रांति एवं आजादी के अमृत महोत्सव पर्व के उपलक्ष्य में 1 करोड़ से अधिक लोगों ने सूर्य नमस्कार किया। उल्लेखनीय है कि आयुष मंत्रालय भारत सरकार ने अमृत महोत्सव के अन्तर्गत अनेक मंत्रालयों के सहयोग व प्रमुख राष्ट्रीय स्तर के योग संस्थानों विशेषतः पतंजलि योगपीठ, क्रीड़ा भारती नेशनल योगासन स्पोर्ट्स फेडरेशन, गीता परिवार एवं हार्टफुलनेस संस्थान के लाखों योग साधकों ने 75 लाख से अधिक लोगों का पंजीकरण किया एवं उन्हें सूर्य-नमस्कार करने के लिए प्रेरित किया। जिन्होंने प्रातः 7 बजे से इस कार्यक्रम में ऑनलाइन भागीदारी करते हुए 1 करोड़ से अधिक प्रतिभागियों ने 13 बार सूर्य-नमस्कार करके एक ही दिन में 10 करोड़ से अधिक सूर्य नमस्कार के अभ्यास करने का विश्व कीर्तिमान बनाया। इस महा अभियान का उद्घाटन ऑनलाइन केन्द्रीय आयुष मंत्री सर्बानंद सोनोवाल एवं योगऋषि स्वामी रामदेव द्वारा 13 सूर्य नमस्कार का अभ्यास करके किया गया। इस अवसर पर श्री श्री रविशंकर, श्री जग्गी वासुदेव, डॉ नागेंद्र, आचार्य बालकृष्ण हरिद्वार से, माता हँसा जयदेव मुंबई से, वैद्य राजेश कोटेजा आयुष सचिव दिल्ली, राष्ट्रीय आयोजन समिति के अध्यक्ष एवं हरियाणा योग आयोग के चेयरमैन आदरणीय डॉ जयदीप आर्य जी उपस्थित रहे। उल्लेखनीय है कि 3 जनवरी से 20 फरवरी तक योगऋषि स्वामी रामदेव के नेतृृत्व में 75 करोड़ सूर्य-नमस्कार आयोजित करने का अभियान निरंतर चल रहा है। इस अवसर पर पतंजलि रिसर्च इंस्टीट्यूट द्वारा ट्रैडिशनल आयुर्वेदिक मेडिसिन पर क्लिनिकल तथा एनिमल ट्रायल करने के बाद जो 100 रिसर्च एण्ड एविडेंस बेस्ड मेडिसिन के रिसर्च अनुसंधान विश्व के प्रतिष्ठित साइंटिफिक जर्नल्स में रिसर्च पेपर के रूप में प्रकाशित हुए हैं उसकी एक संकलन पुस्तिका का भी अनावरण योगऋषि स्वामी रामदेव, आचार्य बालकृष्ण, साध्वी आचार्या देवप्रिया, डॉ. जयदीप आर्य, भाई राकेश, डॉ. अनुराग वार्ष्णेय, स्वामी परमार्थ देव, साध्वी देवमयी आदि गणमान्यों द्वारा किया गया।