संतो की मौजूदगी में पतंजलि कन्या गुरुकुलम निर्माण के लिए हुआ भूमि पूजन

 


हरिद्वार। पतंजलि योगपीठ में शनिवार को पतंजलि कन्या गुरुकुलम बाबा रामदेव ने सन्तो की उपस्थिति में भूमिपूजन किया गया, पतंजलि गुरुकुलम् के नवीन परिसर का भूमिपूजन एवं शिलान्यास कार्ष्णी पीठाधीश्वर गुरु शरणानंद जी महाराज के कर-कमलों से सम्पन्न हुआ। जिसमें जूना पीठाधीश्वर स्वामी अवधेशानंद महाराज व साध्वी ऋतंभरा ने भी शिरकत की। यह दो चरणों में पूरा होगा जिसमें प्रथम आज पतंजलि कन्या गुरुकुलम् के भवन का शिलान्यास किया गया। सर्वप्रथम वैदिक मंत्रेेच्चारण के साथ भूमिपूजन किया गया जिसमें सभी शीर्ष संतों ने नींव की ईंट लगाकर दिव्य-भव्य भवन निर्माण की अनुमति प्रदान की। स्वामी रामदेव ने कहा कि लगभग 500 करोड़ की लागत से बन रहे इस भवन में भारत के गौरवशाली इतिहास व गुरुकुल परम्परा के दर्शन होंगे, जहाँ एक ओर दिव्यता होगी तथा दूसरी और भव्यता। उन्होंने कहा कि पतंजलि गुरुकुलम् का उद्देश्य दिव्य व भव्य व्यक्तित्व निर्माण करना है। यहाँ वैदिक शिक्षा के साथ-साथ आधुनिक शिक्षा व भारतीय मूल्यों का ज्ञान भी छात्र-छात्रओं को प्रदान किया जाएगा। सीडीएस बिपिन रावत की दुर्घटना में मृत्यु पर स्वामी जी महाराज ने शाजिश की आशंका जताई तथा उन्हें मरणोपरांत भारत रत्न पुरस्कार प्रदान करने की मांग की। नन्हें बच्चों से शास्त्र श्रवण कर कार्ष्णी पीठाधीश्वर पूज्य गुरु शरणानंद जी महाराज ने कहा कि आज जिस तरह से आप सबने हमें चारों खाने चित्त कर दिया है, हम आपसे हारकर अत्यंत प्रसन्न हैं। इनके बराबर तो हमें अब तक याद नहीं है। आप तो हमारे लिए प्रेरणा बन गए। 500 से 1000 सूत्र एक दिन में कण्ठस्थ करना ओलंपिक मैडल प्राप्त करने से भी बड़ी बात है। उन्होंने विद्यार्थियों को सम्बोधित करते हुए कहा कि संस्कृति के विद्यार्थी अक्सर हीन भावना रखते हैं, आप स्वयं में गौरव की अनुभूति रखना, हम सरस्वती के वरद पुत्र हैं। आचार्य बालकृष्ण ने कहा कि जिन अभिभावकों ने अपने नन्हें-नन्हें बच्चों को वैदिक शिक्षा प्राप्त करने के लिए गुरुकुलम् भेजा है उनका बहुत बड़ा दिल है। यहाँ से अष्टाध्यायी, धातुपाठ, पंचोपदेश, वेद, उपनिषद् आदि का ज्ञान प्राप्त कर ये बच्चे देश-विदेश में भारतीय ऋषि परम्परा की पताका फहराएँगे। कार्यक्रम में जूनापीठाधीश्वर स्वामी अवधेशानंद गिरि ने कहा कि हमारे सम्मुख बैठे छोटे-छोटे बच्चे भावी राष्ट्र निर्माता हैं। विदेशों में आज संस्कृत व भारतीय परम्पराओं को अपनाया जा रहा है किन्तु हमारे देश में लोग पाश्चात्यता की ओर भाग रहे हैं। पतंजलि गुरुकुलम् की स्थापना से भारतीय परम्पराओं व ऋषि संस्कृति को गौरव मिलेगा। वात्सल्य ग्राम की संस्थापिका दीदी माँ ऋतम्भरा पतंजलि गुरुकुलम् के भूमि पूजन का साक्षी बनना स्वयं में गौरव की बात है। इस अवसर पर राम मंदिर ट्रस्ट के कोषाध्यक्ष आचार्य गोविन्ददेव गिरि ने कहा कि संयमित जीवन व आध्यात्मिक  दृष्टिकोण ही सफल जीवन का मार्ग है। कार्यक्रम में साधना आश्रम, डुमेठ, ऋषिकेश से पूज्य स्वामी प्रेम विवेकानंद ने भी अपने विचार रखे। कार्यक्रम में भारतीय शिक्षा बोर्ड के अध्यक्ष एन.पी.सिंह,पतंजलि विश्वविद्यालय के प्रति-कुलपति प्रो. महावीर, विश्वविद्यालय की कुलानुशासिका आचार्या साध्वी देवप्रिया, मुख्य महाप्रबंधक ललित मोहन,विनय कटियार, सहायक कुलानुशासक स्वामी परमार्थ देव,स्वामी आर्शदेव,स्वामी ईशदेव, स्वामी मित्रदेव,साध्वी देवमयी, साध्वी देवश्रुति, वैदिक गुरुकुलम् व वैदिक कन्या गुरुकुलम् के संन्यासी भाई व साध्वी बहनें तथा पतंजलि गुरुकुलम् के छात्र-छात्रएँ उपस्थित रहे।