उत्तराखण्ड के विकास में पतंजलि योगपीठ भी दे रहा महत्वपूर्ण योगदान


 हरिद्वार। उत्तराखंड स्थापना दिवस के अवसर पर पतंजलि योगपीठ में एक कार्यक्रम का आयोजन किया गया। कार्यक्रम में स्वामी परमार्थ देव ने कहा कि उत्तराखंड के विकास कार्यों में पतंजलि योगपीठ विभिन्न प्रकल्पों के माध्यम से बड़ा कार्य कर रही है। पतंजलि भारतीय आयुर्विज्ञान एवं अनुसंधान संस्थान के प्राचार्य डॉ. अनिल कुमार ने कहा कि पतंजलि ने पहाड़ के युवाओं को रोजगार सुलभ कराकर पलायन को रोका है। स्वस्थ वृत्त विभाग के प्राध्यापक डॉ. प्रत्युष कुमार ने कहा कि जैविक खाद, बीज व उच्च गुणवत्तायुक्त कीटनाशक उपलब्ध कराकर किसानों को जैविक कृषि के लिए प्रेरित भी किया जा रहा है।द्रव्यगुण विभाग के डॉ. राजेश मिश्रा ने कहा कि पहाड़ों पर पतंजलि चिकित्सालय व आरोग्य केंद्रों की स्थापना से निशुल्क चिकित्सकीय परामर्श प्रदान कर स्वास्थ्य की दृष्टि से बड़ा कार्य किया जा रहा है। स्वामी परमार्थ देव व स्वामी सोमदेव के दिशानिर्देशन में कार्यक्रम को सफलतापूर्वक पूर्णता की ओर ले जाया गया। कार्यक्रम में पतंजलि भारतीय आयुर्विज्ञान एवं अनुसंधान संस्थान के डॉ. धीरज, डॉ. मनोज भाटी, डॉ. रामराज, डॉ. फरहा अंसारी, डॉ. विभूति, पतंजलि विश्वविद्यालय के डॉ. नरेंद्र, आचार्य राघव आदि ने सक्रिय भूमिका का निर्वहन किया।