वनस्पति विज्ञान के क्षेत्र मिलकर कार्य करेगें गुकाविवि व अनामिका हर्बल

 हरिद्वार। गुरुकुल कांगड़ी विश्वविद्यालय और अनामिका हर्बल मिलकर वनस्पति विज्ञान के क्षेत्र में वनस्पति के माध्यम से रोगों के निवारण हेतु वनस्पतियों की उपयोगिता पर शोध कार्य करेंगे। इस संबंध में कुलपति कार्यालय में विश्वविद्यालय व अनामिका हर्बल के बीच हुए एमओयू पर विश्वविद्यालय के कुलपति प्रो. रूपकिशोर शास्त्री और अनामिका हर्बल के डायरेक्टर डा. विजय गुप्ता ने हस्ताक्षर किए। प्रो. रूपकिशोर शास्त्री ने कहा कि निश्चय ही इस अनुबंध के माध्यम से जहां विश्वविद्यालय के छात्रों को शोध के क्षेत्र में और अधिक बेहतर अवसर उपलब्ध होंगे। कुलसचिव डा. सुनील कुमार ने कहा कि हमारे यहां वनस्पति के क्षेत्र में अपार संभावनाएं है। वर्तमान में जरूरत इस बात की है कि इन पर शोध कार्य कर इनका उपयोग मानव जीवन की रक्षा के लिए किया जा सके। डा. विजय गुप्ता ने कहा कि आने वाले समय में गुरुकुल कांगड़ी के साथ मिलकर वनस्पति औषधियों के क्षेत्र में जहां व्यापक शोध किया जा सकेगा, वहीं इसका लाभ दोनों संस्थाओं में कार्य करने वाले शोध वैज्ञानिकों और छात्रों तथा अनामिका हर्बल के वैज्ञानिकों को परस्पर मिलेगा। वनस्पति एवं सूक्ष्म जीव विज्ञान के विभागाध्यक्ष प्रो.नवनीत ने विभाग में चल रहे शोध कार्यों के बारे मे विस्तार से जानकारी दी। इस अवसर पर डीन रिसर्च प्रो. आरसी दुबे, परीक्षा नियंत्रक प्रो. वीके सिंह, प्रो. मुकेश शर्मा, डा.कार्तिकेय गुप्ता, डा. संदीप, डा.विनीत विश्नोई, डा.चिरंजीव बेनर्जी, कुलभूषण शर्मा आदि शामिल रहे।