अखिल भारत हिन्दू महासभा के भवन को जबरन व्यापारिक बनाने का लगाया आरोप

 


हरिद्वार। अखिल भारत हिन्दू महासभा के राष्ट्रीय कार्यकारी अध्यक्ष योगेन्द्र वर्मा ने आरोप लगाया है कि सन 2006 में हिन्दू महासभा भवन पर काबिज वीरेश कुमार त्यागी,मुन्ना शर्मा ने भवन को अययाशी व शराबी,जुआरी का अडड्ा बना दिया है। शनिवार को प्रेस क्लब में पत्रकारों से वार्ता करते हुए श्री वर्मा ने कहा कि हिन्दू महासभा संविधान के खिलाफ इन लोगों द्वारा व्यापारिक गतिविधियाॅ चला रखी है।। हिन्दू महासभा संविधान के अनुसार महासभा के भवन को किराये पर देना,शादी विवाह में पैसे लेकर बुक करना या उसका व्यापारिक करण करना संविधान के बिल्कुल खिलाफ है। बताया कि इस समय पर भवन पर एन0डी0एम0सी0 द्वारा दण्ड शुल्क के रूप में कई करोड़ बकाया है। मुन्ना कुमार शर्मा ने आज तक कोई पैसा नही जमा कराया है। उन्होने आरोप लगाया कि इन लोगों ने पिछले 15वर्षो में 24करोड़ रूपये भवन की कमाई करके खा चुके है। उन्होने आरोप लगाया कि इन लोगों द्वारा 15सालों की हिन्दुओं की कमाई जुएं,शराब पर उड़ा रहे है। मांग की कि ऐसे लोगों का सामाजिक बहिष्कार किया जाना आवश्यक है। इन लोगों द्वारा क्रान्तिकारियों द्वारा अपमान किया जा रहा है। दावा किया कि वर्तमान में महासभा का कोई संवैधानिक राष्ट्रीय अध्यक्ष नही है। उन्होने आवाहन किया कि हिन्दू महासभा एक सामाजिक और धार्मिक संगठन है,उसका अपमान नही सहा जायेगा। वार्ता के दौरान महासभा के अन्य लोग भी उपस्थित थे।