पानी,हाउस टैक्स में बढ़ोत्तरी का वरिष्ठ नागरिकों ने किया विरोध

 हरिद्वार। वरिष्ठ नागरिक सामाजिक संगठन की बैठक में जल मूल्य वृद्धि और अधिक हाउस टैक्स के साथ ही बिजली के बिलों पर नाजायज अधिभार लगाने का वरिष्ठ नागरिकों ने विरोध किया। ज्वालापुर में आयोजित बैठक में अध्यक्ष चैधरी चरण सिंह ने कहा कि सरकार ने जल मूल्य को कम करने के लिए कमेटी का गठन किया था। लेकिन अप्रैल 2021 से जल मूल्य में 5ः की वृद्धि कर दी गई है। न्यूनतम जल मूल्य लगभग 2175 रुपये वार्षिक हो गया है। प्रेशर कम होने के कारण पानी का प्रेशर बढ़ाने के लिए बिजली का अतिरिक्त आर्थिक भार जुड़ने से पानी और महंगा हो गया है। विद्यासागर गुप्ता ने कहा हाउस टैक्स पहले से ही काफी अधिक है। हरदयाल अरोड़ा ने कहा ने कहा बिजली बिल में फिक्स चार्ज 200 प्रति माह है। साथ में फ्यूल चार्ज लगा दिया गया है। यह चार्ज समय-समय पर बढ़ते रहते हैं। क्षेत्रीय उपभोक्ताओं पर यह चार्ज लगाना अन्याय है। सभी सदस्यों ने प्रस्ताव पारित करते हुए कहा कि सरकार जनता के साथ बार-बार शुल्क में बढ़ोतरी कर अन्याय कर रही है संगठन इसका विरोध करता है। सरकार ने बढ़ाए शुल्क को निरस्त नहीं किया तो संगठन जनता के साथ धरने पर बैठने को बाध्य होगा। इस दौरान एमसी त्यागी, एसएस भास्कर, योगेंद्र पाल सिंह, एनसी काला, प्रेमकुमार, हरिश्चन्द्र चावला, वीके भाटिया, देवी दयाल, अनिल चैहान, लक्ष्मी नारायण सक्सेना, ताराचंद, रोहिताश शर्मा, शिवकुमार शर्मा, गुलाब राय, बाबूलाल, श्याम सिंह, हरिनाथ धीमान, गिरधारी लाल शर्मा आदि शामिल रहे।