योग एवं ध्यान ऋषि मुनियों की प्राचीन पद्धति है-म.म.स्वामी रूपेंद्र प्रकाश


 हरिद्वार। पंडित रघुवीर गौड़ की स्मृति में भूपतवाला स्थित नवनिर्मित पंडित रघुवीर सदन में निःशुल्क ध्यान एवं योग केंद्र का शुभारंभ प्राचीन अवधूत मण्डल के परमाध्यक्ष महामण्डलेश्वर स्वामी रूपेंद्र प्रकाश एवं गंगोत्री धाम के रावल शिवप्रकाश महाराज ने संयुक्त रूप से रिबन काटकर किया। इस अवसर पर म.म.स्वामी रूपेंद्र प्रकाश महाराज ने कहा कि भवन में योग एवं ध्यान के लिए निर्मित किया गया है। अवश्य ही श्रद्धालु भक्तों के अलावा स्थानीय नागरिकों को इसका लाभ प्राप्त होगा। योग एवं ध्यान ऋषि मुनियों की प्राचीन पद्धति रही है। जीवन को सरल बनाने के लिए योग एवं ध्यान अवश्य किया जाना चाहिए। देश के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी लगातार योग का प्रचार प्रसार देश दुनिया में कर रहे हैं। योग गुरू बाबा रामदेव ने दुनिया में योग की पताका को फहराने का काम किया। देश एवं विदेशी लोग योग को अपनाकर शरीर की दुर्बलताओं को दूर कर रहे हैं। अपनी बौद्धिक क्षमताओं का विस्तार करने के लिए योग एवं ध्यान किया जाना नितांत आवश्यक है। पंडित रघुवीर गौड़ की स्मृति में ज्योतिषाचार्य राजेश सिंधु योग एवं ध्यान केंद्र स्थापित कर बेहतर प्रयास किया। गंगोत्री धाम के रावल शिवप्रकाश महाराज ने कहा कि योग एवं ध्यान दिनचर्या शामिल होना चाहिए। जटिल से जटिल बीमारियों को दूर करने में योग महत्वपूर्ण भूमिका निभा रहा है। शरीर एवं मस्तिष्क पर नियंत्रण रखने के लिए योग एवं ध्यान रखना जरूरी है। कोरोना काल में शरीर की इम्युनिटी को बढ़ाने के लिए योग एवं ध्यान किया जाना जरूरी है। उन्होंने कहा कि इन्द्रियों पर नियंत्रण रखने का सबसे सरल माध्यम योग एवं ध्यान है। ज्योतषाचार्य राजेश सिंधु ने कहा कि आज के भागदौड़ वाले जीवन मे निर्मित भवन में योग एवं ध्यान केंद्र स्थापित होने से युवा पीढ़ी का योग एवं ध्यान से मार्गदर्शन हो सकेगा। उन्होंने कहा कि शरीर को मजबूत बनाना है तो योग को अपनाना होगा। भाजपा के लोकसभा सोशल मीडिया प्रभारी आशीष कुमार झा ने म.म.स्वामी रूपेंद्र प्रकाश एवं गंगोत्री धाम के रावल शिवप्रकाश महाराज का फूलामालाएं पहनाकर स्वागत किया। इस अवसर मनोज सिखोला, दिनेश शर्मा, रजत त्यागी, दिव्यम यादव, राज शर्मा, राघव ठाकुर, नीरज शर्मा, दीपक उपाध्याय, पंडित ओमप्रकाश शर्मा, पार्षद अनिरूद्ध भाटी, अमित त्यागी, विजय गुप्ता, गुलबीर चैधरी, सुखबीर सिंह, सुमित्र पांडेय आदि मौजूद रहे।