उत्तराखण्ड परिवहन निगम कर्मियों ने दी कार्यबहिष्कार की चेतावनी

 हरिद्वार। अपनी लम्बित मांगो को पूरा कराने के लिए उत्तराखंड परिवहन निगम (रोडवेज) के चार संगठनों ने उत्तराखंड परिवहन निगम संयुक्त मोर्चा का गठन किया है। संयुक्त मोर्चा सामूहिक रूप से हक की लड़ाई लड़ेगा। इसी के तहत संयुक्त मोर्चा के बैनर तले 15 जुलाई की मध्यरात्रि से रोडवेज कर्मियों ने कार्य बहिष्कार करने की चेतावनी दी है जिससे रोडवेज बसों के पहिए जाम हो जाएंगे। इसके साथ ही कार्यशाला में भी काम ठप हो जाएगा। पिछले काफी समय से आधा वेतन करने सहित विभिन्न मांगो को लेकर रोडवेज कर्मी आंदोलनरत है। उत्तराखंड रोडवेज इंप्लाइज यूनियन, उत्तराखंड परिवहन मजदूर संघ, एससी-एसटी श्रमिक संघ, उत्तरांचल रोडवेज कर्मचारी यूनियन की ओर से संयुक्त मोर्चा का गठन किया गया है। मोर्चा के सदस्य एवं एससी-एसटी श्रमिक संघ के शाखा मंत्री केपी सिंह ने बताया कि संघ से जुड़े रोडवेज कर्मचारी आंदोलन को सफल बनाने में अपना पूरा सहयोग देंगे। उन्होंने बताया कि 15 जुलाई की मध्यरात्रि से 16 जुलाई की मध्यरात्रि तक एक दिवसीय संपूर्ण कार्य बहिष्कार करने का निर्णय प्रांत स्तर से लिया गया है। इस निर्णय के बाद सभी जगह कार्य बहिष्कार की तैयारी कर ली गई है। इस संबंध में हरिद्वार सहायक महाप्रबंधक को सोमवार को पत्र सौंपा जाएगा। रोडवेज कर्मचारियों को वेतन पूरा देने की मांग के साथ ही कर्मचारी विरोधी निर्णय को जल्द से जल्द वापस लिया जाए। कर्मचारियों की मांगों को लेकर अधिकारियों ने अगर संज्ञान नहीं लिया तो प्रांतीय स्तर से निर्णय लेने के बाद आगे की रणनीति तय की जाएगी। उन्होंने बताया कि कार्य बहिष्कार के चलते बसों का संचालन और कार्यशाला में भी काम नहीं होगा।