भगवान शिव के स्मरण मात्र से मिट जाते हैं सभी संकट-डा.केपी द्विवेदी शास्त्री

 हरिद्वार। अखिल भारतीय ज्योतिष विचार संस्थान दिल्ली के राष्ट्रीय अध्यक्ष डा.के.पी. द्विवेदी शास्त्री ने कहा है कि भगवान शिव सृष्टि के शीघ्र प्रसन्न होने वाले देवता हैं। जिनके स्मरण एवं नामोच्चारण मात्र से व्यक्ति के सभी संकटों का शमन हो जाता है। भुपतवाला स्थित श्रीकृष्ण हरिधाम में लोक कल्याण हेतु आयोजित महारुद्राभिषेक में पधारे श्रद्धालुओं को कुम्भ पर्व एवं पूजन के महत्व की जानकारी दे रहे थे। श्रीकृष्ण हरिधाम के परमाध्यक्ष स्वामी प्रेमानन्द शास्त्री के सानिध्य में चल रहे रुद्राभिषेक का हेतु बताते हुए डा.के.पी. द्विवेदी शास्त्री ने कहा कि विशिष्ट ग्रह एवं नक्षत्रों के योग से कुम्भ पर्व की आवृत्ति होती है। इसीलिए कुम्भ क्षेत्र में किए गए जप, तप, दान, गंगा स्नान तथा अनुष्ठान का पुण्यफल सहस्त्र गुना अधिक होता है। गंगा अवतरण एवं कुम्भ स्नान की महत्ता बताते हुए उन्हांेने कहा कि गंगा का अवतरण भगवान शिव की जटाओं से हुआ था। इसीलिए कुम्भ पर्व एवं गंगा तट पर रुद्राभिषेक का विशेष महत्व होता है। पं.तर्कराज भट्ट के निर्देशन में चल रहे महारुद्राभिषेक को सम्पूर्ण राष्ट्र के लिए कल्याणकारी बताते हुए उन्होंने कहा कि अनुष्ठान की पूर्णाहुति पर यज्ञ एवं भोजन प्रसाद से साधकों की मानसिक शांति के साथ ही अन्तःकरण की शुद्धि हो जाती है। उन्होंने बताया कि महारुद्राभिषेक की पूर्णाहुति पर कल शिव स्वरुप 51 दण्डी स्वामियों के भोजन प्रसाद की व्यवस्था की जायेगी।