छात्रवृत्ति घोटाला के मामले में आईटीआई काॅलेज चैयरमेन को एसआईटी ने किया गिरफ्रतार

 हरिद्वार। करोड़ो रूपये के छात्रवृत्ति घोटाला के मामले में एसआईटी ने सहारनपुर स्थित एक आईटीआई कॉलेज के चेयरमैन को गिरफ्तार किया है। आरोप है कि चेयरमैन ने बच्चों के खातों से 4.50 लाख रुपये अपने खातों में रकम ट्रांसफर की थी। जबकि छात्रों को खातों के बारे में कोई जानकारी नहीं थी। ज्ञात रहे कि छात्रवृत्ति घोटाले का पर्दाफाश होने के बाद एसआईटी की ओर से सिडकुल थाने में रामजीलाल प्राइवेट इंडस्ट्रियल ट्रेनिंग इंस्टीट्यूट बिलासपुर देवबंद सहारनपुर के खिलाफ केस दर्ज कराया गया था। आरोप था कि वर्ष 2014-15 के बीच कॉलेज को 4. 50 लाख रुपये की छात्रवृत्ति हरिद्वार समाज कल्याण विभाग की ओर से जारी की गई थी। एसआईटी के सदस्य इंस्पेक्टर राजेंद्र सिंह खोलिया को मामले की जांच दी गई। जांच करते हुए सामने आया कि छात्रों से दस्तावेज लेकर उनके दाखिले करने के साथ ही बैंक में खाते खुलवाए गए थे। जबकि छात्रों को इन खातों के बारे में कोई जानकारी नहीं थी। घोटाले की जांच कर रही एसआईटी पड़ताल में सामने आया कि हरिद्वार के जिला समाज कल्याण विभाग की ओर से संस्थान को करीब 4.5 लाख रुपये की छात्रवृत्ति दी गई। जांच में अधिकांश छात्र फर्जी पाए गए खातों की डिटेल खंगाली गई तो सामने आया कि छात्रों के खातों से रकम विजय शंकर शर्मा पुत्र रतिराम शर्मा निवासी शास्त्री नगर सदर सहारनपुर के बैंक खातों में गई है। खातों में विजय शंकर शर्मा का मोबाइल नंबर भी अपडेट था। जांच के बाद पुलिस ने विजय शंकर शर्मा को गिरफ्तार कर लिया है। विजय रामजीलाल प्राइवेट आईटीआई के चेयरमैन हैं। आरोपी ने एसआईटी के सामने अपना जुर्म स्वीकार किया है। एसआईटी प्रभारी मंजूनाथ टीसी ने बताया कि आरोपी को जेल भेजा जा रहा है। । एसआइटी की एक टीम ने इंस्टीटयूट संचालक विजय शंकर शर्मा निवासी शास्त्री नगर, सहारनपुर उत्तर प्रदेश को गिरफ्तार कर लिया है।