माहे रमजान में खुदा अपने बंदे को एक नेकी के बदले सत्तर नेकियां देता है

  हरिद्वार। ग्राम सराय के समाजसेवी हाजी कासिम अंसारी ने प्रदेशवासियों को माहे रमजान की मुबाकरकबाद देते हुए कहा कि अल्लाह के नेक बंदे माहे रमजान में रोजा रखकर अल्लाह की इबादत करते हैं। पांचो वक्त नमाज पढ़कर दुआएं मांगते हैं। माहे रमजान में एक नेकी के बदले सत्तर नेकियां खुदा अपने बंदों को देता है। उन्होंने कहा कि माहे रमजान में गरीब, निसहाय, निर्धन परिवारों के अलावा अपने पडोसियों का भी ध्यान अवश्य रखना चाहिए। हाजी कासिम अंसारी ने मुस्लिम समाज के लोगों से अपील करते हुए कहा कि सरकार के दिशा निर्देशों का अनुपालन सभी को करना चाहिए। उन्होंने कहा कि कोरोना संक्रमण को देखते हुए विशेष रूप से सतर्कता बरतने की जरूरत है। कासिम अंसारी ने प्रशासन से अपील करते हुए कहा कि सराय सहित सभी गांवों की मस्जिदों के आसपास साफ सफाई, सेनेटाइजेशन किया जाना चाहिए। साथ ही पथ प्रकाश व्यवस्था को भी लागू किया जाए। ग्रामीण क्षेत्र में अकसर बिजली गुल होने की समस्या बनी रहती है। इस पर ध्यान देते हुए रमजान के दौरान नियमित रूप से विद्युत आपूर्ति की जाए। जिससे रोजेदारों के परेशानी का सामना ना करना पडे। उन्होंने कहा कि ग्राम सराय में वृहद स्तर से सफाई अभियान चलाकर कीटनाशक दवाओं का छिड़काव अवश्य किया जाए। माहे रमजान के पवित्र महीने मे रोजेदार रात दिन अपने खुदा की इबादत में अधिकांश समय व्यतीत करते हैं। उन्होंने कहा कि रोजेदार को विशेष तौर पर अपने रोजे का ध्यान रखना होगा।