प्रतीकात्मक रूप से शाही स्नान करने को लेकर हुई सन्यासी अखाड़े के संतों की मेला प्रशासन से बैठक

 

हरिद्वार। कुम्भ मेला का शाही स्नान 27 अप्रैल को सन्यासी अखाड़े के संत प्रतीकात्मक रूप से करेंगे। एक अखाड़े से करीब 100 साधु संत जुलूस के रूप में स्नान करने जाएंगे। कोरोना की गाइडलाइन का पालन करते हुए सोशल डिस्टेंसिंग और मास्क पहनेंगे।ये निर्णय श्री पंचायती अखाड़ा महानिर्माणी में शाही स्नान को लेकर आयोजित बैठक में लिया गया।  भारतीय अखाड़ा परिषद के राष्ट्रीय महामंत्री श्रीमहंत हरिगिरि महाराज ने कहा कि अखाड़े के संत प्रतीकात्मक रूप से 27 अप्रैल चैत्र पूर्णिमा का शाही स्नान करेंगे। कोरोना की गाइडलाइन का पालन करते हुए स्नान किया जायेगा। पंचायती अखाड़ा श्री निरंजनी के सचिव एवं कुंभ मेला प्रभारी श्रीमहंत रविंद्रपुरी महाराज ने कहा कि बैठक में शाही स्नान को लेकर मेला प्रशासन के साथ चर्चा की गई है। 27 अप्रैल के शाही स्नान करने के लिए से सन्यासी अखाड़े जायेंगे। एक अखाड़े से केवल 100 ही साधु संत प्रतीकात्मक रूप से जुलूस के रूप में जाएंगे। जुलूस में बैंड बाजे, ढोल नगाड़े नहीं होंगे। सभी संत अपने वाहनों से हरकी पैड़ी के लिए निकलेंगे। सोशल डिस्टेंसिंग का पूरा ध्यान रखा जायेगा। सभी मास्क पहनेंगे। इस अवसर पर अखिल  पंचायती अखाड़ा श्री निरंजनी के सचिव व मेला प्रभारी श्रीमहंत रविंद्रपुरी महाराज, श्री पंचायती अखाड़ा  महानिर्माणी के सचिव श्रीमहंत रविंद्रपुरी महाराज, मेलाधिकारी दीपक रावत, आईजी संजय गुंज्याल, अपर मेलाधिकारी हरबीर सिंह, सीओ कुंभ प्रमोद घिल्डियाल, इंस्पेक्टर भावना कैंथोला आदि उपस्थित रहे।