राजनीतिक द्वेष के चलते दर्ज कराये गये झूठे मुकदमे को वापस लिया जाए-इसरार अहमद

 हरिद्वार। सलमानी वेलफेयर सोसायटी के अध्यक्ष व पार्षद इसरार अहमद ने अपने उपर लगे सभी आरोपों को बेबुनियाद बताया है। गुरूवार को प्रैस क्लब में पत्रकारों से वार्ता करते हुए इसरार अहमद ने कहा कि राजनीतिक द्वेष के चलते उनकी छवि खराब करने के लिए विपक्षीयों द्वारा गबन व संपत्ति पर कब्जा करने जैसे निराधार आरोप लगाए जा रहे हैं। इसरार अहमद ने कहा कि इसके खिलाफ वे जल्द ही कोर्ट में मानहानि का केस दायर करेंगे। उन्होंने बताया कि वर्ष 2015 में सलमानी वेलफेयर सोसायटी को रजिस्ट्रर्ड कराया गया था। लेकिन 2017 में विवाद होने पर पुलिस ने आठ लोगों की एक कमेटी का गठन किया था। इसके बाद उन्होंने आय-व्यय के ब्यौरे से हित पूरा हिसाब किताब कमेटी को सौंप दिया था। इसके बाद से कमेटी ही सोसायटी का संचालन कर रही है। जबकि कमेटी का गठन केवल तीन महीने के लिए किया गया था। लेकिन इसके बाद हुए पार्षद चुनाव में हार से बौखलाए उनके प्रतिद्वंदी नसीम सलमानी उनकी छवि खराब करने के लिए सोसायटी का धन गबन करने व संपत्ति खुर्दबुर्द करने जैसे तरह तरह के झूठे और मनगढंत आरोप लगा रहे हैं। जबकि उन्होंने पूरा हिसाब किताब कमेटी को सौंप दिया था। अब यह कमेटी का दायित्व था कि वह हिसाब किताब की जानकारी संबंधित विभाग व कमेटी का गठन करने वाली पुलिस को देती। लेकिन कमेटी ने अपने इस दायित्व का पालन नहीं किया। प्रैसवार्ता के दौरान अफ्तार अहमद, जमशेद बेग अली, सुल्तान, विक्की सलमानी, वाजिद उर्फ सोनू, सरफराज सलमानी, इकबाल अहमद, जावेद, आजम सलमानी, इंतजार अली, याकूब सलमानी, कल्लू सलमानी, तनवीर आदि भी मौजूद रहे।