जिला हरिद्वार क्रिकेट एसोसियेशन ने वसीम जाफर के आरोपों को नकारा

 हरिद्वार। क्रिकेट एशोसिएशन ऑफ उत्तराखंड (सीएयू) के सचिव महिम वर्मा के ऊपर लगाये गये उत्तराखंड क्रिकेट टीम के पूर्व कोच वसीम जाफर के आरोपांे को जिला हरिद्वार क्रिकेट एसो. ने पूरी तरह नकारा है। जिला हरिद्वार क्रिकेट एसो. के सचिव इन्द्रमोहन बड़थ्वाल व सहसचिव कुलदीप असवाल ने बताया कि वसीम जाफर जैसा बल्लेबाज को उत्तराखंड क्रिकेट टीम का कोच बनाकर, ये हमारे लिये गर्व की बात रही, लेकिन उनको उत्तराखंड क्रिकेट टीम का कोच बनाने वाले भी पूर्व उपाध्यक्ष बीसीसीआई व क्रिकेट एसोसियेशन आफ उत्तराखंड के सचिव महिम वर्मा ही है। जिला हरिद्वार क्रिकेट एसो. के पदाधिकारियों का कहना है कि उत्तराखंड क्रिकेट में महिम वर्मा और उनके परिवार का योगदान को कोई नही भूल सकता। महिम वर्मा का उत्तराखंड क्रिकेट की जो योजना है वह बहुत ही सराहनीय है। उन्होंने खुद ही आने वाले वर्षों में ट्रायल की प्रक्रियाओं को बंद करके क्लब क्रिकेट की शुरू करने का प्लान बना रखा है जो कि अन्तिम अवस्था में है जिसकी प्रक्रिया पूरे उत्तराखंड में चल रही है इस प्रक्रिया के अंतर्गत उत्तराखंड के प्रत्येक जिले में क्लब/एकेडमी/स्कूल/कॉलेज का पंजीकरण प्रक्रिया चल रही है। पंजीकृत क्लबों के ही जिला क्रिकेट लीग प्रतियोगिताएं जिलों में आयोजित होंगी और प्रदर्शन के आधार पर ही खिलाड़ियों का चयन किया जाएगा और आने वाले समय में जिला क्रिकेट लीग मंे खिलाड़ियों को प्रतिभाग कर श्रेष्ठ प्रदर्शन करने के बाद अंतर्जनपदीय क्रिकेट लीग में खेलने का मौका मिलेगा। इसके बाद श्रेष्ठ प्रदर्शन करने वाले खिलाड़ियों का ही राज्य स्तर की क्रिकेट टीम का चयन होगा। प्रदर्शन के आधार पर ही जिला, राज्य और उत्तराखंड की टीमों का चयन किया जाना है। यह बात समझ नहीं आती की महिम वर्मा के ऊपर कुछ लोग आरोप उनके ऊपर लगाए गए सभी आरोप बेबुनियाद और गलत है। महिम वर्मा का उत्तराखंड के क्रिकेट के विकास की जो योजना या विजन है  वह काबिले तारीफ है और निश्चित ही उसके परिणाम हम सभी को भविष्य में देखने को मिलेंगे।