सुरक्षित,सुन्दर,स्वच्छ कुम्भ मेला के लिए करे मेला प्रशासन की सहायता-दीपक रावत

 हरिद्वारः मेलाधिकारी दीपक रावत ने स्वयं सेवी संस्थाओं से कहा कि कुम्भ मेले में देश-विदेश से भी लोग आते हैं। आप सन्दुर, स्वच्छ व सुरक्षित कुम्भ मेला आयोजित करने में मेला प्रशासन को किस तरह की सहायता कर सकते हैं, इस सम्बन्ध में अपने बहुमूल्य विचार प्रस्तुत करें। गुरूवार को मेला नियंत्रण कक्ष के सभागार में हुई बैठक में मेलाधिकारी ने बताया कि हमने कुम्भ मेले की दृष्टि से कई शौचालयों का निर्माण कराया है, हमें ऐसे स्वयं सेवी संस्थाओं की भी आवश्यकता है, जो लोगों को बतायंे कि कहां-कहां पर शौचालय की व्यवस्था की गयी है, ताकि अन्य जगहों पर गन्दगी न फैले, जिन्हें माॅनिटर करने के लिये हम एप भी बना रहे हैं। उन्होंने कहा कि धूम्रपान निषेध, धायल पशुओं की देखरेख आदि अनेक कार्यों के संचालन के लिये भी हमें स्वयंसेवियों की आवश्यकता है। बैठक में रोटरी क्लब के पदाधिकारियों ने बताया कि हम प्लास्टिक का कम से कम इस्तेमाल करें, के सम्बन्ध में जन-जागरूकता अभियान जैसे नुक्कड़ नाटक आदि के माध्यम से चलायेंगे, महामना सेवा संस्थान के पदाधिकारियों ने बताया कि हम संस्कृत विद्यालय चलाते हैं, विद्यालय में पढ़ने वालेे लगभग 75 छात्रों के माध्यम से हम पर्वतीय क्षेत्रों से आने वाले यात्रियों को कोविड-19 एवं प्लास्टिक के इस्तेमाल को हतोत्साहित करने के सम्बन्ध में जागरूक करेंगे, फस्र्ट एड फैसेलिटी संस्था के पदाधिकारियों ने बताया कि हमारा गु्रप पूरे मेला क्षेत्र में भ्रमण करता रहता है, जिसको भी प्राथमिक उपचार की आवश्यकता होती है, हम उपलब्ध कराते हैं। फिजिकल फाउण्डेशन तथा गंगा सेवा समिति के पदाधिकारियों ने बताया कि हम पूरे शहर में स्वच्छता अभियान चलायेंगे। आने वाले कुम्भ मेले में हम पूरी तत्परता से कार्य करेंगे। मेलाधिकारी को बैठक में धर्म सेवा संगठन के पदाधिकारियों ने बताया कि हमारी 21 लोगांें की कार्यकारिणी है, जो विकलांगों की सेवा, ब्लड डोनेशन आदि से सम्बन्धित कार्य करती है, स्वामी विवेकानन्द संस्था के पदाधिकारियों ने बताया कि हमारा 20 लोगों का समूह है, जो पेयजल व्यवस्था तथा पुलिस का सहयोग कर सकती है, रंगमंच संस्था के पदाधिकारियों ने बताया कि हमारी 50 लोगों की टीम है, जो प्लास्टिक की जगह मिट्टी के वर्तनों को प्रोत्साहित करने के साथ ही आयुर्वेद का भी प्रचार करती है। सेवाश्रम से जुड़े स्वयं सेवी संस्था तथा शुभकामना हास्पिटलिटी सर्विसेज ने बताया कि हम यातायात नियंत्रण में मदद कर सकते हैं। बैठक में विनोद कुमार त्रिपाठी ने बताया कि हमारी 20 लोगों की टीम है, जो कोरोना से बचाव के सम्बन्ध में जानकारी देती है, हरियाणा सामाजिक संगठन ने बताया कि बहादराबाद इलाके से जो गाड़ियां आयेंगी, उन्हें सही पार्किंग आदि की व्यवस्था करने में सहयोग करेंगे, ब्राह्मण जागृति संस्था ने बताया कि हम पेयजल व मार्ग बताने में मेला प्रशासन का सहयोग करेंगे, योग से जुड़ी संस्था ने बताया कि हम वेलनेस कैम्प के माध्यम से योग तथा आयुर्वेद से सम्बन्धित जानकारी देंगे, आकांक्षा संस्था के पदाधिकारियों ने बताया कि हम मानसिक रूप से विकलांग बच्चों की सहायता करते हैं, जो मानसिक रूप से विकलांग हैं, उन्हें चिह्नित करके सम्बन्धित केन्द्र तक पहुंचाते हैं। भारत स्काउट्स गाइड ने बताया कि हमारे पास लगभग एक हजार स्वयं सेवी हैं, जो साफ-सफाई अभियान, रेलवे तथा बस अड्डे पर यात्रियों को मार्गदर्शन देने आदि का कार्य करेंगे। बीइंग भगीरथ के शिखर पालीवाल ने बताया कि हमारे पास 50 स्वयं सेवी हैं, जो गंगा मंे विसर्जित किये गये कपड़े व फूलों के निसतारण का कार्य कर रहे हैं, ऋषिकेश की संस्था ने बताया कि हमारे पास 200 स्वयंसेवी हैं, जो चिकित्सा सुविधा उपलब्ध कराने तथा शौचालय की व्यवस्था करने में मदद कर सकते हैं, एन0एस0एस0 के पदाधिकारियों ने बताया कि हरिद्वार में हमारे 500 एनएसएस के सदस्य है, जो यातायात नियंत्रण में मदद करेंगे, वेलफेयर समिति ने बताया कि वे बेहतर कुम्भ के लिये न्यूजरील तैयार करेंगे, सेवा भारती तथा पर्वतीय सांस्कृतिक समिति से जुड़े लोगों ने बताया कि वे भारतीय संस्कृति के प्रचार-प्रसार का कार्य करेंगे। दीपक रावत ने बैठक में भाग लेने वाले सभी स्वयं सेवी संस्थाओं का, बहुमूल्य सुझाव व सहयोग प्रदान करने के लिय,े धन्यवाद ज्ञापित किया। इस अवसर पर अपर मेला अधिकारी ललित नारायण मिश्र, हरवीर सिंह एवं रामजी शरण, उप मेला अधिकारी कृष्ण सिंह नेगी तथा दयानन्द सरस्वती सहित अन्य सम्बन्धित स्वयं सेवी संस्थाओं के पदाधिकारीगण उपस्थित थे।