मेलाधिकारी का स्थलीय निरीक्षण का सिलसिला जारी,महामण्डलेश्वर नगर का लिया जायजा

 हरिद्वार। मेलाधिकारी दीपक रावत ने कुम्भ मेला 2021 के तहत बनने वाले महामण्डलेश्वर नगर की व्यवस्थाओं की तैयारियों को लेकर स्थलीय निरीक्षण किया। गुरूवार को मेलाधिकारी ने अधिनस्थों के साथ चण्डीपुल के नीचे बनने वाले पूरे महामण्डलेश्वर नगर का निरीक्षण किया। निरीक्षण के दौरान मेलाधिकारी ने कहा कि इस क्षेत्र की भूमि काफी अच्छी स्थिति में होने की वजह से आसानी से विकसित हो जायेगी। प्रस्तावित नगर में केवल बिजली, पानी तथा शौचालय की व्यवस्था के साथ ही दो-तीन रैम्प बनाने की आवश्यकता है। इस क्षेत्र का महत्व इसलिए भी अधिक है कि यह गौरी शकर दीप से जुड़ा हुआ है। दीपक रावत ने मौके पर उपस्थित अधिकारियों को उगी झाड़ियों को यथाशीघ्र का साफ करने के निर्देश दिये। मेलाधिकारी ने महामण्डलेश्वर नगर के आखिरी छोर पर गंगा के तट पर काफी लम्बे क्षेत्र में बालू की मौजूदगी को देखते हुये कहा कि इस तट पर महाकुम्भ तथा माइथोलाॅजी की थीम से सम्बन्धित सैण्ड आर्ट की प्रतियोगिता कराई जायेगी। जिन्हें श्रद्धालु तट के उस पार से भी आसानी से देख सकेंगे। निरीक्षण के दौरान पत्रकारों द्वारा मेलाधिकारी से कुम्भ को देखते हुये कोरोना वैक्सीन की मांग करने के बारे में पूछने पर मेलाधिकारी ने कहा कि हमारा उद्देश्य अग्रिम पक्तियों में काम करने वाले अधिक से अधिक लोगों को वैक्सीन की सुविधा उपलब्ध कराना है। उन्होंने पत्रकारों को यह भी बताया कि ललतारों पुल पर एचआरडीए के माध्यम से लाइटिंग की बेहतरीन व्यवस्था की जायेगी। उन्होंने कहा कि कुम्भ से सम्बन्धित सारे कार्य समय से पूर्ण हो जायेंगे। इस अवसर पर अपर मेलाधिकारी हरवीर सिंह, उप मेलाधिकारी अशुल सिंह,दयानन्द सरस्वती, किशन सिंह नेगी, सी0ओ0, पी0सी0 देवली, तहसीलदार,  मंजीत सिंह के अलावा लोक निर्माण, विद्युत, जल संस्थान सहित सम्बन्धित विभागों के अधिकारीगण मौजूद थे।