जल्दी ही विकसित शहरो की श्रेणी में होगा आध्यात्मिक राजधानी हरिद्वार

हरिद्वार। उत्तराखंड ब्राह्मण महासभा के अध्यक्ष पंडित पदम प्रकाश शर्मा ने कहा है कि देवभूमि उत्तराखंड का प्रवेश द्वार कहलाने वाला तीर्थ हरिद्वार भारत की अध्यात्मिक राजधानी के रूप में अपनी अलग पहचान रखता है। नया राज्य बनने के बाद से अब तक की सभी सरकारों तथा चयनित जन प्रतिनिधिनियों ने हरिद्वार के विकास में सराहनीय प्रयास किए लेकिन आगामी कुंभ 2021 को लेकर राज्य सरकार और विशेषकर नगर विकास मंत्री द्वारा शहर का जो कायाकल्प किया जा रहा है वह पूर्णता को प्राप्त करने के बाद हरिद्वार को भारत के प्रथम श्रेणी शहरों के उच्च शिखर पर स्थापित करेगा। ब्राहमण सभा की ओर से प्रैस को जारी एक बयान में पंडित पदम प्रकाश शर्मा ने कहा कि देश की सात मोक्ष पुरियों में हरिद्वार का स्थान प्रथम पायदान पर है। इस धर्मनगरी की धर्मपरायण जनता का आशीर्वाद उसी को प्राप्त होता है जो जनहित के कार्यों को जमीनी स्तर से जुड़कर करवाता है।  हरिद्वार में आजकल सीवर, जल निकासी ,अंडर ग्राउंड विधुत तथा गैस पाइपलाइन का जो कार्य युद्ध स्तर पर चल रहा है बह कुंभ से पूर्व ही पूर्ण कर लिया जाएगा जिससे हरिद्वार देश के सुविधा संपन्न शहरों की श्रेणी में आ जाएगा।  2021  के आरंभ में ही शहर में सी एन जी चलित वाहनों का प्रयोग बढ़ा दिया जाएगा जिससे वायु प्रदूषण भी समाप्त हो जाएगा तथा बैटरी चलित वाहनों का प्रयोग बढ़ने से ध्वनि एवं वायु प्रदूषण को समाप्त कर दिया जाएगा।  हरिद्वार के पार्कों का विकास तथा रोड़ी बेलबाला के कायाकल्प के साथ ही जिस दिन हाईवे पर बन रहे पुलों का कार्य पूर्ण हो जाएगा उस दिन हरिद्वार धरती के स्वर्ग के रुप में जाना और पहचाना जाएगा।