तीन सूत्रीय मांगो को लेकर श्रमिक कल्याण परिषद ने किया सरकार के खिलाफ प्रदर्शन

हरिद्वार। मजदूरों की तीन सूत्रीय मांगों को लेकर श्रमिक कल्याण परिषद ने सिडकुल में सरकार के खिलाफ प्रदर्शन किया। इससे पहले मजदूरों ने सिडकुल में दवा चैक तक जुलूस भी निकाला। श्रमिक कल्याण परिषद के प्रांतीय अध्यक्ष और भाजपा नेता संजय चोपड़ा ने कहा कि कोविड-19 महामारी में फैक्ट्री प्रबंधन आए दिन श्रमिकों का उत्पीड़न कर रहे है, जोकि दुर्भाग्यपूर्ण है। उन्होंने कहा कि राज्य सरकार शीघ्र ही उत्तराखंड के सभी औद्योगिक क्षेत्र के कामगार मजदूर संगठनों के प्रतिनिधियों को विश्वास में लेकर मजदूरों की समस्याओं के निदान के लिए जन सुनवाई के कार्यक्रम आयोजित करे। सिडकुल क्षेत्र में दैनिक मजदूरों की समस्याओं के निदान के लिए जनसुनवाई को शिविर लगाने, फैक्ट्री प्रबंधन व मजदूरों के बीच के मामलों के निस्तारण को कमेटी का गठन और सरकार के संरक्षण में श्रमिकों को अनुदान राशि व राशन किट, साइकिल, सिलाई मशीन, सोलर लाइट आदि की बड़े पैमाने पर भ्रष्टाचार की जांच करने की मांग शामिल है। जिलाध्यक्ष महिपाल सिंह रावत ने कहा कि जिस प्रकार से फैक्ट्री प्रबंधनों द्वारा श्रमिक कानूनों को ताक पर रख कर आये दिन श्रमिकों को बिना कारण बताए निकाला जा रहा है, वह आने वाले समय मे चिंता का विषय है। उन्होंने कहा श्रमिकों के कल्याण के लिए राज्य सरकार द्वारा उचित प्रबंधनों के साथ न्यायपूर्ण रवैया अपनाना होगा। जलूस निकालकर प्रदर्शन करने वालों में चंद्रेश कुमार, राजेन्द्र सिंह, केतन कुमार, राज सिंह, रणविजय, सौरभ सिंह, संजीव कुमार, संतोष कुमार, शैलेंद्र मोहन, मदन मोहन, बलवंत सिंह, शिव कुमार, मनमोहन रावत, उमाशंकर बिष्ट, मुकेश यादव, कृष्णा नेगी, शैलेन्द्र चैहान, मनीष पटवाल, हरेंद्र गुप्ता, मनोज मंडल, प्रभात रावत, प्रदीप वत्स आदि शामिल रहे।