मोबाइल दुकान स्वामी ने फाॅसी लगाकर दी जान,पुलिस ने कब्जे में लिया सुसाइड नोट

हरिद्वार। नगर कोतवाली क्षेत्रान्गर्त एक मोबाइल दुकान चलाने वाले युवक ने मानसिक तौर पर परेशान होकर फांसी के फंदे से लटककर खुदकुशी कर ली। कारोबारी ने अपनी मौत का जिम्मेदार सुसाइड नोट में अपने भाई और मां को बताया है। कारोबारी ने दोनों के खिलाफ कार्रवाई की बात सुसाइड नोट में लिखी है। नगर कोतवाली पुलिस के मुताबिक क्षेत्रान्गर्त श्रवणनाथ नगर मायापुर निवासी 43 वर्षीय प्रदीप मान पुत्र बहादुर सिंह मान पेशे से मोबाइल कारोबारी थे। मंगलवार को प्रदीप ने अपने श्रवणनाथ नगर स्थित घर पर फांसी के फंदे पर लटककर खुदकुशी कर ली। मंगलवार को जब मृतक के परिजन घर पहुचे तो देखा कि प्रदीप फाॅसी के फन्दे पर लटके हुए थे। आनन-फानन में परिवार वाले आसपास वालों की मदद से उन्हें अस्पताल ले गए। जहां चिकित्सकों ने उन्हें मृत घोषित कर दिया। सूचना मिलते ही नगर कोतवाली के एसएसआई नंदकिशोर और मायापुर चैकी प्रभारी संजीत कंडारी मौके पर पहुंचे। पुलिस के अनुसार मौके पर जांच के दौरान पुलिस को कमरे से एक सुसाइड नोट बरामद हुआ। सुसाईड नोट में मृतक प्रदीप ने अपनी मौत का जिम्मेदार भाई और मां को बताया है। पुलिस के अनुसार परिवार के बीच संपत्ति को लेकर विवाद था। जिस कारण प्रदीप पिछले कुछ दिनों से डिप्रेशन में थे। यह भी सामने आ रहा है कि कुछ संपत्ति को बिना प्रदीप की राय लेकर भेज दिया गया था। प्रदीप रेलवे स्टेशन के पास मोबाइल की दुकान चलाते थे। जबकि श्रवण नाथ नगर स्थित मान होटल को उन्होंने लीज पर दिया हुआ था। एसएसआई नंदकिशोर ग्वाडी ने बताया कि सुसाइड नोट पुलिस में कब्जे में ले लिया है।